आयुर्वेद में हल्दी(Turmeric) को सबसे बेहतरीन नेचुरल एंटीबायोटिक(Natural antibiotics) माना गया है। इसलिए यह स्किन, पेट और शरीर के कई रोगों में उपयोग की जाती है। हल्दी के पौधे से मिलने वाली इसकी गांठें ही नहीं, बल्कि इसके पत्ते भी बहुत उपयोगी होते हैं।हल्दी अपने गुणकारी रासायनिक तत्वों के कारण औषधि के समान लाभदायक होती है। हल्दी में खून साफ़ करने और सूजन को ठीक करने के मजबूत गुणकारी तत्व होते हैं। अधिकांश परिवारों में सूखी हल्दी का इस्तेमाल किया जाता है।

हल्दी जहां एक ओर खाने का स्वाद और रंग बढ़ा देती है, वहीं इसका उपयोग सौंदर्य वृद्धि और त्वचा की समस्याओं को दूर करने में भी किया जाता है. इसके अलावा हल्दी शरीर को स्वस्थ रखने में भी बहुत सहायक है. निरोग रहने के हल्दी के कुछ बेमिसाल उपाय हम आपको यहां बता रहे हैं –

हल्दी के चमत्कारिक औषधीय गुण:

  • सर्दी, जुकाम: हल्दी से शरीर की रोग प्रतिरोधक की क्षमता बढती है और सर्दी, जुकाम आदि नहीं होते।

खुराक: प्रतिदिन 1 चम्मच हल्दी 1 गिलास गुनगुने दूध के साथ ले |

  • मुंह में छाले: मुंह में छाले होने पर गुनगुने पानी में हल्दी मिलाकर कुल्ला करने से आराम मिलता हैं |

प्रयोग विधि: दिन में दो बार कुल्ला करें।

  • मुंह की बदबू: 1 चम्मच हल्दी, ½ चम्मच नमक और थोड़े से सरसों के तेल में मिलाए और अंगुली से प्रतिदिन मसूड़ों की मालिश करने से पायरिया, मुंह की बदबू व दांतों के रोग में अत्यन्त लाभकारी है।

प्रयोग विधि: प्रतिदिन दिन में दो बार मालिश करें।

  • पीलिया से राहत: 2 चम्मच हल्दी, आधा किलो बिना मलाई वाले दही में मिलाए इससे पीलिया की बीमारी में लाभ होता हैं ।

खुराक: दिन में 3 बार खायें।

हल्दी और शहद मिलाकर खाने से फायद:

खुराक: प्रतिदिन सुबह-शाम सेवन करें।

  • दूध हल्दी और शहद: हल्दी और शहद से लाभ उठाने के लिए 1चम्मच पिसी हुई कच्ची हल्दी, 1चम्मच शहद, 1 गिलास गर्म दूध में मिलाकर पीने से शरीर में कहीं भी दर्द हो, कमर दर्द, सिरदर्द हो, ठीक हो जाता है।

खुराक: दिन में 2 बार सेवन करें।

  • सोने से पहले हल्दी दूध लाभ: 1 चम्मच हल्दी को एक गिलास गर्म दूध के साथ पीने से हड्डियाँ मजबूत रहती है और अस्थमा भी कंट्रोल में रहता हैं |

खुराक: दिन में 1 बार सेवन करें।

चोट-घाव को ठीक करने के लिए हल्दी के उपयोग

  • कट या जल: कट या जल जाए तो हल्दी के पाउडर को लगाने से खून का बहना बन्द हो जाता है। त्वचा जलने पर हल्दी लगाने से फफोला नहीं पड़ता है।
  • चोट: चोट लगने पर थोड़ा-सा घी या सरसों का तेल लें, दो चम्मच पिसी हुई हल्दी लें, दो चम्मच प्याज का रस, दो चम्मच गेहूँ का आटा लें सबको मिलाकर गर्मा-गर्म लेप बना कर लगाए।

आँखों के लिए हल्दी के उपयोग:

  • आँखों दुखने समस्या: आँखों के दुखने पर पिसी हुई हल्दी में पानी डालकर सफेद कपड़े पर लगा लें l हल्दी के रंग में रंगे इस कपड़े को दुखती आँखों पर रखकर ऊपर से पट्टी बाँधे।

प्रयोग विधि: दिन में 1 बार करें।

या

  • आधा चम्मच हल्दी में 5 बूंदें घी की डालकर गर्म करके पलकों पर लगायें। इससे आँखों का दर्द कम हो जाता है।

प्रयोग विधि: दिन में 1 बार करें।

  • आँखों की लाली की समस्या: 1 चम्मच हल्दी 1 गिलास पानी में घोलकर, उबालकर, छान लेंl आंखें बन्द रखें जिससे हल्दी का पानी अन्दर नहीं जाए और सिकाई भी हो जाए। इससे आँखों की लाली, सूजन, आँखों से पानी गिरना आदि रोग ठीक हो जाते हैं।

प्रयोग विधि: रोजाना 2 बार आँखे धोयें।

  • कैंसर को रोकने में भी उपयोगी है हल्दीहल्दी के औषधीय गुणों का उपयोग केवल छोटे-मोटे रोगों को ही ठीक करने में ही नही है, बल्कि हल्दी कैंसर जैसे जानलेवा रोग को दूर रखने में भी उपयोगी है क्योंकि इसमें एक विशेष प्रकार का अल्कलॉइड कर्कुमिन(Alkalide Cucurmin) तत्व पाया जाता है जो कैंसर विरोधी है। हल्दी के लगातार सेवन से शरीर में म्यूटाजेन का निर्माण नहीं होता। म्यूटाजेन(Mutagen) शरीर की कोशिकाओं के डीएनए को क्षति पहुँचाता है।

खुराक: 1/2 चम्मच हल्दी प्रतिदिन 1 बार पानी या दूध से सेवन करें।

कच्ची हल्दी के सेहतमंद गुण:

  • दिमाग़ी स्वस्थ्य: अगर आप सुबह उठकर गरम पानी में हल्दी मिलाकर पीते हैं तो यह दिमाग के लिए बहुत अच्‍छा रहता है।
  • खून की सफ़ाई: हल्‍दी वाला पानी पीने से खून नहीं जमता और यह खून साफ करने में भी मददगार है।
  • त्वचा हो साफ और खूबसूरत: दूध पीने से त्वचा में प्राकृतिक चमक पैदा होती है, और दूध के साथ हल्दी का सेवन, एंटीसेप्टिक व एंटी बैक्टीरियल होने के कारण त्वचा की समस्याओं जैसे – इंफेक्शन, खुजली, मुंहासे आदि के बैक्टीरिया को धीरे-धीरे खत्म कर देता है। इससे आपकी त्वचा साफ और स्वस्थ और चमकदार दिखाई देती है।
  • हड्डियां बने मजबूत: हल्दी वाला दूध लेने से हड्डियां मज़बूत होती हैं । दूध में कैल्श‍ियम होने के कारण यह हड्डियों को मजबूत बनाता है और हल्दी के गुणों के कारण रोगप्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होती है। इससे हड्डी संबंधि‍त अन्य समस्याओं से छुटकारा मिलता है।
  • ब्लड शुगर कम करे: खून में शर्करा की मात्रा अधिक हो जाने पर हल्दी वाले दूध का सेवन ब्लड शुगर को कम करने में मदद करता है। लेकिन अत्यधि‍क सेवन शुगर को अत्यधि‍क कम कर सकता है। कच्ची हल्दी से बनी चाय अत्यधिक लाभकारी पेय है। इससे इम्यून सिस्टम मजबूत होता है।
  • वज़न कम करें: हल्दी में वजन कम करने का गुण पाया जाता है। इसका नियमित उपयोग से वजन कम होने की गति बढ़ जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *